Samajik Vedna

Just another weblog

30 Posts

69 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15128 postid : 632392

जाग जाओ

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जाग जाओ
मनुज जीवन तो पानी भाँति बहे जा रहा है।
आंधी- अंधड़ हवा के झोंके सहे जा रहा है।।
दिवा-दृगों की तेज तपन में जले जा रहा है।
अज्ञानता बस हबस की आग पिये जा रहा है।।
पाने की आश में सब कुछ खोये जा रहा है।
आत्मा की न सुनकर मनमानी किये जा रहा है।।
कुछ भी न पाओगे और जिन्दगी बीत जायेगी।
बहुत ही पछताओगे जब घड़ी बीत जायेगी।।
कर लो पुनीत कर्म जान-समझ लो जीवन का मर्म।
है एक दिन धरा छोड़ जाना यही है प्रकृति-धर्म।।
भज लो राम-नाम सारा जीवन संवर जायेगा।
रंग लो राम-चरित्र से सारा दुःख निपट जायेगा।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
October 28, 2013

SUNDAR V SARTHAK PRASTUTI .AABHAR

    bdsingh के द्वारा
    October 28, 2013

    धन्यवाद शिखा जी।


topic of the week



latest from jagran